Home » Astrology » Why Janamashtami is celebrated on 3 September जन्माष्टमी 3 सितंबर को क्यों मनाई जाएगी

Why Janamashtami is celebrated on 3 September जन्माष्टमी 3 सितंबर को क्यों मनाई जाएगी

जन्माष्टमी 3 सितंबर को क्यों मनाई जाएगी

पूरे दुनिया में जन्माष्टमी का पर्व 3 सितंबर को मनाया जाएगा जब की अष्टमी तिथि 2 सितंबर की रात में है 3 सितंबर की रात में अष्टमी तिथि नहीं है। फिर भी भगवान कृष्ण का जन्म उत्सव जन्माष्टमी 3 सितंबर की रात को मनाया जाएगा।

धर्म ग्रंथों के अनुसार भगवान कृष्ण का जन्म भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष में अष्टमी तिथि को रोहिणी नक्षत्र में मध्य रात्रि में हुआ था। इस साल अष्टमी तिथि 2 सितंबर की शाम को शुरु होगी और 3 सितंबर की शाम को समाप्त हो जाएगी। भगवान कृष्ण का जन्म मध्य रात्रि में हुआ था मध्य रात्रि में अष्टमी 2 सितंबर को है 3 सितंबर को मध्य रात्रि में नवमी लग जाएगी।

भारत में कोई भी पर्व और त्योहार उदया तिथि को मनाया जाता है यदि जिस दिन सूर्योदय के समय जो तिथि हो वही मानी जाती है अष्टमी तिथि 3 सितंबर को सूर्योदय के समय होगी इसलिए भारत के मंदिरों में भगवान कृष्ण का जन्म उत्सव 3 सितंबर को मनाया जाएगा

मथुरा और वृन्दावन में भी जन्माष्टमी का उत्सव 3 सितंबर 2018 को मनाया जाएगा।

Check Also

How to make your children scholar Your child can get good marks in school

Every parent want that their children future should be bright. They do hard work for …

Lunar eclipse on 27 july 2018 Time of Lunar eclipse on 27 July 2018

27 जुलाई कब दिखेगा चंद्रग्रहण 27 जुलाई को कहां दिखेगा चंद्रग्रहण भारत में 27 जुलाई …

When Husband and Wife Living away from each other Yog For Separation

कब पति-पत्नी एक दूसरे से दूर रहते हैं ये कुंडली देखकर जाना जा सकता है। कुंडली में यदि कुछ विशेष योग हों तो पति-पत्नी को दूर रहना पड़ता है।