Home » Yagya » When and why do Rudrabhisek Where shiv ji is living in which day

When and why do Rudrabhisek Where shiv ji is living in which day

Rudrabhisek will be effective according to shiv living place

रुद्राभिषेक में शिव निवास का विचार करने पर ही अनुष्ठान सफल होता hai

शिव वास कब कहा hota hai
1. प्रत्येक मास के कृष्णपक्ष की प्रतिपदा, अष्टमी, अमावस्या तथा शुक्लपक्ष की द्वितीया व नवमी के दिन भगवान शिव माता गौरी के साथ होते हैं, इस तिथिमें रुद्राभिषेक करने से सुख-समृद्धि उपलब्ध होती है।

2. कृष्णपक्ष की चतुर्थी, एकादशी तथा शुक्लपक्ष की पंचमी व द्वादशी तिथियों में भगवान शंकर कैलाश पर्वत पर होते हैं और उनकी अनुकंपा से परिवार मेंआनंद-मंगल होता है।

3. कृष्णपक्ष की पंचमी, द्वादशी तथा शुक्लपक्ष की षष्ठी व त्रयोदशी तिथियों में महादेव नंदी पर सवार होकर संपूर्ण विश्व में भ्रमण करते है।अत: इन तिथियों में रुद्राभिषेक करने पर अभीष्ट सिद्ध होता है।

4. कृष्णपक्ष की सप्तमी, चतुर्दशी तथा शुक्लपक्ष की प्रतिपदा, अष्टमी, पूर्णिमा में भगवान महाकाल श्मशान में समाधिस्थ रहते हैं।

अतएव इन तिथियों में किसी कामना की पूर्ति के लिए किए जाने वाले रुद्राभिषेक में आवाहन करने पर भगवान शिव की साधना भंग होती है, जिससे अभिषेककर्ता पर विपत्ति आ सकती है।

5. कृष्णपक्ष की द्वितीया, नवमी तथा शुक्लपक्ष की तृतीया व दशमी में महादेव देवताओं की सभा में उनकी समस्याएं सुनते हैं। इन तिथियों में सकाम अनुष्ठान करने पर संताप या दुख मिलता है।

6. कृष्णपक्ष की तृतीया, दशमी तथा शुक्लपक्ष की चतुर्थी व एकादशी में सदाशिव क्रीडारत रहते हैं। इन तिथियों में सकाम रुद्रार्चन संतान को कष्ट प्रदान करते है।

7. कृष्णपक्ष की षष्ठी, त्रयोदशी तथा शुक्लपक्ष की सप्तमी व चतुर्दशी में रुद्रदेव भोजन करते हैं।
इन तिथियों में सांसारिक कामना से किया गया रुद्राभिषेक पीडा देते हैं।

तीर्थस्थान में तथा शिवरात्रि-प्रदोष, श्रावण के सोमवार आदि पर्वो में शिव-वास का विचार किए बिना भी रुद्राभिषेक किया जा सकता है।

पारद , स्फटिक , नर्मदेश्वर, अथवा पार्थिव शिवलिंग का अभिषेक किया जाय तो बहुत ही शीघ्र शुभ परिणाम मिलता है

– भवन-वाहन के लिए दही से रुद्राभिषेक करें।
– लक्ष्मी प्राप्ति के लिये गन्ने के रस से रुद्राभिषेक करें।
– धन-वृद्धि के लिए शहद एवं घी से अभिषेक करें।
-पुत्र प्राप्ति के लिए दुग्ध से
– सरसों के तेल से अभिषेक करने पर शत्रु पराजित होता है।
– गो दुग्ध से तथा शुद्ध घी द्वारा अभिषेक करने से आरोग्यता प्राप्त होती है।

Check Also

Is Money is every thing क्या धन ही सबकुछ है

Money Can not buy every thing अक्सर लोगों की बातें धन कमाने को लेकर होती …

How to do Abhishek of Lord Krishna भगवान कृष्ण का अभिषेक कैसे करें

जन्माष्टमी में मौके पर हर कोई भगवानन कृष्ण का अभिषेक करना चाहता है ऐसे में …

why we should worship in home What are benefit of Puja in House

क्यों करना चाहिए घर में पूजा What are benefit of Puja in House अक्सर लोग …